Saturday, 7 May 2011

AANSUO KI LAKIR


चहरे पे आंशुओ की लकीर बन गई !
                        जो न चाहा था वो तकदीर बन गई !!
हमने तो युही चलाई थी रेत पैर उंगलिया !
                        गोर से देखा तो आपकी तस्वीर बन गई !!

4 comments:

  1. मैं आपके ब्लाग को फालो कर रहा हूँ। आप भी कृपया मेरे ब्लाग "एक्टिवे लाइफ" “आज का आगरा” को फालो करें. धन्यवाद...

    ReplyDelete
  2. मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  3. ला-जवाब" जबर्दस्त!!

    ReplyDelete