Wednesday, 25 May 2011

उसने खुदको छुपा लिया

देख कर हमे गली मे अपनी उसने  खुदको छुपा लिया !
                     नाजाने दुशमनो ने हमारे क्या उसको सिखा दिया !!
और घर क्या बनवाया उसने अपना मस्जिद के सामने !
                                       चाहत ने उसकी हमे नमाजी बनादिया  !! 


मजबूर ये हालत इधर भी है उधर भी !
                                तन्हाई की एक रात इधर भी है उधर भी !!
           कहने को बहुत कुछ है मगर किससे कहे हम !
                           कब तक यु खामोश रहे और सहे हम !!
   दिल कहता है दुनिया की हर रस्म उठा दे !
                          दिवार जो हम दोनों मे है आज गिरा दे !!
   क्यों दिल मे सुलगते रहे लोगो को बतादे !
                 हा हमको मोहबत है मोहबत है !!
    अब दिल में ये बात इधर भी है उधर भी है !





                                                                     सिलसिला 
                                                       

9 comments:

  1. बहुत खूब ...जंग ऐ ऐलान हो ही जाए

    ReplyDelete
  2. आदरणीय श्री राजपुरोहित जी
    बहुत ही अच्छा लिखा है उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  3. आपका ब्लॉग बहुत से सपने दिखाता है. फ़्रेज़नल्ज़ और बेबीज़ से चकाचौंध सेट है जो सपनों को रोशन और रंगीन बनाता है. आपका स्वागत और आभार.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर और लाजवाब रचना लिखा है आपने ! प्रशंग्सनीय प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  5. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्छा लिखा है उम्दा प्रस्तुती|धन्यवाद|

    ReplyDelete